Coronavirus: क्या सर्जिकल मास्क राेक सकता है कोरोनावायरस का संक्रण, जानिए सच

Coronavirus In Hindi: चीन से शुरू हुआ कोरोनावायरस अब पूरे एशिया में फैल रहा है। नोवल कोरोनावायरस – “2019-nCoV” – SARS और MERS वायरस के समान वर्ग से है। अब तक इससे 41 लोगों की मौत हो चुकी है और सैकड़ों लोग संक्रमित हैं, क्योंकि यह फैलता जा रहा है।

कोरोनावायरस से बचाव के लिए कई तरह की तरह के उपाय अपनाए जा रहे हैं। जिनमें सर्जिकल मास्क पहनना भी शामिल है। चीन और कोरोनावायरस प्रभावित इलाकों में सर्जिकल मास्क की मांग बढ़ गई है। आइए जानते हैं कि क्या सर्जिकल मास्क पहनने से वायरस संक्रमण से बचा जा सकता है

आमतौर पर चिकित्सा प्रक्रियाओं के दौरान स्वास्थ्य पेशेवरों द्वारा उपयोग किए जाने वाले मास्क को कोरोनोवायरस प्रभावित इलाकों में कई लाेगाें ने पहना है। हालांकि, विशेषज्ञ इस बात पर एक राय नहीं हैं कि, क्या मास्क वायुजनित बीमारी के प्रसार को रोकने के साधन के रूप में प्रभावी हैं।

वायरल की बूंदों के उत्सर्जन को 25-गुना कम करता है
सर्जिकल मास्क सबसे पहले 1919 में स्पेनिश इन्फ्लूएंजा के प्रकोप से बचाव के लिए लाेगाें द्वारा पहना गया। जाे आज भी लोकप्रिय हैं। 2013 के एक अध्ययन में पाया गया कि ये मास्क वायुजनित रोगों से सुरक्षा प्रदान करने में प्रभावी थे। जांच में पाया गया कि मास्क पहनने से बड़ी वायरल बूंदों का उत्सर्जन 25 गुना कम हो गया।

छोटे वायरल बूंदों से बचाने के लिए मास्क कम प्रभावी होते हैं, लेकिन फिर भी 2.8 गुना तक बूंदों का उत्सर्जन कम करते हैं।

2009 के एक अध्ययन में यह भी पाया गया कि सर्जिकल मास्क उपयोगकर्ताओं को फ्लू जैसी बीमारियों से बचाने के लिए अधिक प्रभावी थे, जो आमतौर पर चिकित्सा वातावरण में उपयोग किए जाने वाले अधिक परिष्कृत श्वसन यंत्र के रूप में होते हैं।

2009 के एक अन्य परीक्षण में, घर में सर्जिकल मास्क का उपयाेग करने से संक्रमण के फैलने के जोखिम में 60 से 80 प्रतिशत तक कमी देखी गई।

विशेषज्ञों के अनुसार मास्क को प्रभावी बनाने के लिए उन्हें सही ढंग से पहनने, नियमित रूप से बदलने और सुरक्षित रूप से डिस्पोस्ड की आवश्यकता होती है। यह धारणा है कि फेस मास्क पहनना फायदेमंद हो सकता है, लेकिन वास्तव में इन नैदानिक सेटिंग के बाहर उनके उपयोग से व्यापक लाभ के बहुत कम सबूत हैं।

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्, अमरीका ने भी रोग के प्रसार को रोकने के लिए इन मास्क को पहनने की सलाह नहीं दी है। क्योंकि यह समुदाय में वायरस के संचरण को रोकने में ज्यादा असरदार नहीं हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार वायुजनित बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए अक्सर गर्म पानी और साबुन से हाथ धोएं। जब आप खाँसते हैं या छींकते हैं तो मुंह पर कपड़े का इस्तेमाल करें।

from Patrika : India’s Leading Hindi News Portal https://ift.tt/2GnOzOc