IND VS AUS: विराट ने मुंबई वनडे से पहले कहा, रिकॉर्ड नहीं ‘यह’ रहता है उनका प्लान

IND vs AUS: विराट ने मुंबई वनडे से पहले कहा, रिकॉर्ड नहीं 'यह' रहता है उनका प्लान
विराट को कहना है कि एक कप्तान के तौर पर उनकी जिम्मेदारी ज्यादा है.

India vs Australia: विराट कोहली का कहना है कि उनका ध्यान रिकॉर्ड पर नहीं बल्कि कप्तान के तौर पर बड़ा काम होता है.

वानखेड़े स्टेडियम में शुरु हो रही भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच वनडे सीरीज के पहले टीम इंडिया  के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) अपनी कप्तानी  सिर्फ निजी तौर पर सफलता हासिल नहीं करना चाहते बल्कि उनकी कोशिश भविष्य की टीम तैयार करने की है. उन्होंने टीम के लिए दीर्घकालिक विजन की बात कही है. उन्होंने कहा कि वह कप्तान के तौर पर विदाई लेने से पहले एक ऐसी टीम अपने पीछे छोड़ना चाहते हैं जो मौजूदा टीम की तरह ही मजबूत हो.भारत को मंगलवार को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज का पहला मैच खेलना है. मैच की पूर्व संध्या पर कोहली ने संवाददाताओं से कहा, “टीम का कप्तान होने के नाते, मेरा काम है कि मैं यह सुनिश्चित करूं कि अगली पौध तैयार रहे. कई लोग हो सकता है कि इस तरह से नहीं देखें, लेकिन कप्तान के तौर पर आपका काम सिर्फ मौजूदा टीम को देखने का नहीं होता है बल्कि एक ऐसी टीम भी तैयार करने का होता है जो आपके जाने के बाद मौजूदा टीम का स्थान ले सके.कोहली ने कहा, “यह वो समय है जब आपको सावधान रहना होता है. निजता में चले जाना आसान है, यह कहना कि मुझे रन करने की जरूरत है, जब मैं स्कोर करता हूं तो अच्छा महसूस करता हूं यह आसान है. लेकिन यह इस तरह से नहीं है, यह इस तरह से काम नहीं करता.”उन्होंने कहा, “विजन हमेशा बड़ा होना चाहिए और आपको यह पता लगाना होगा कि आप इन खिलाड़ियों को आत्मविश्वासी कैसे बना सकते हो. किसी को इसकी जिम्मेदारी लेनी है तो वो मैं हूं. मुझे दूसरे खिलाड़ियों को मौका देना होगा.” कोहली को साथ ही लगता है कि एरॉन फिंच की कप्तानी वाली मौजूदा टीम भारत दौरे पर आई पिछली टीम से ज्यादा मजबूत है.कोहली ने कहा, “जो ऑस्ट्रेलियाई टीम पिछली बार भारत आई थी यह टीम उससे ज्यादा मजबूत है. उस टीम ने तब भी सीरीज जीत ली थी. उस सीरीज से पहले उन्होंने अपनी मजबूत टीम खेलाई थी लेकिन हम जीतने में सफल रहे थे.”विराट ने कहा, “आपकी टीम में सबसे अनुभवी और सबसे योग्य खिलाड़ी हो सकते हैं लेकिन अगर आप टीम के तौर पर अच्छा नहीं खेलते हो तो आप जीत नहीं सकते. हमारे साथ आखिरी बार यही हुआ था और जब हम ऑस्ट्रेलिया गए तो यही उनके साथ हुआ था.”कोहली ने कहा है कि दोनों टीमें काफी संतुलित हैं. भारतीय कप्तान ने कहा, “जहां तक संतुलन की बात है तो भारत और ऑस्ट्रेलिया इस समय सबसे संतुलित टीमें हैं. हम एक टीम के तौर पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलने को तैयार हैं.”