LAC पर चीन ने जारी किया ये बड़ा आदेश, कहा बचे भारत…दिया जाएगा…

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि देश में सड़कों और हाईवे के निर्माण में लगी चीनी कंपनियों को प्रतिबंधित कर दिया जाएगा.
इस पर झाओ ने कहा, “हाल के दिनों में भारत के कुछ नेताओं ने ‘गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणियां’ की हैं जो कि दोनों देशों के रिश्तों के लिए ‘हानिकारक’ है.”उन्होंने कहा कि भारत-चीन के रिश्ते को बनाए रखने के लिए दोनों तरफ से पुख्ता प्रयास किए जाने की जरूरत है. भारत को चीन के साथ एकसमान गोल के साथ काम करना चाहिए और हमारे द्विपक्षीय संबंधों के समग्र हितों को बनाए रखना होगा.चीनी ऐप्स पर बैन लगाए जाने को लेकर उन्होंने कहा, “चीन और भारत के लिए व्यवहारिक सहयोग ही फायदेमंद है. ऐसे सहयोग के लिए कृत्रिम रूप से अवरोध बनाना न केवल WTO नियमों का उल्लंघन है, बल्कि भारत के हितों को भी चोट पहुंचाता है. चीन अपने देश के बिजनेस के जायज अधिकारों की रक्षा के लिए सभी जरूरी कदम उठाएगा.”प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को लद्दाख का दौरा किया था. इसे लेकर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता Zhao Lijian ने बीजिंग में कहा, “किसी भी पक्ष को ऐसा कोई कदम नहीं उठाना चाहिए, जिससे सीमा पर हालात उलझ जाएं.”भारत (India) और चीन (China) के बीच पिछले कई दिनों से लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर तनाव बना हु्आ है. इस बीच चीनी सरकार ने कहा है कि भारत को चीन के संबंध में ‘रणनीतिक गलतफहमी’ (Strategic Miscalculation) से बचना चाहिए. चीन की ओर आया यह एक असामान्य बयान माना जा रहा है.