School Reopening: केरल में नहीं खुलेंगे सितंबर में स्कूल, जानिए अपने राज्य का हाल

School Reopening: कोरोना वायरस के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने स्कूलों को ने खोलने का फैसला लिया है. जानिए आपके राज्य में स्कूलों को कब तक खोल जाएगा.

School Reopening: केरल में नहीं खुलेंगे सितंबर में स्कूल, जानिए अपने राज्य का हाल

पूरे देश में स्कूलों को 21 सितंबर से खोले जाने की योजना बनाई गई है लेकिन सोमवार को ही कोरोना वायरस के 2540 मामले सामने आने के बाद केरल सरकार ने सितंबर और यहां तक कि अक्टूबर में भी स्कूलों को खोलने से मना कर दिया. बता दें कि केंद्र सरकार ने 21 सितंबर से स्कूलों को खोले जाने की बात कही थी और इसके लिए गाइडलाइन्स भी पारित की थीं. केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कहा कि जैसे ही लॉकडाउन में छूट मिलेगी वैसे ही कोरोना वायरस मामलों के और बढ़ने की संभावनाएं हैं. विजयन ने कहा कि राज्य 50 हजार टेस्ट रोजाना करना चाहती है. लेकिन ऐसी मौजूदा हालात में स्कूलों को खोलना संभव नहीं है.

केरल के स्कूलों को खोलने से मना करने के बाद जानते हैं कि बाकी राज्यों की क्या स्थिति है-

दिल्ली ने केंद्र की गाइडलाइन्स को फॉलो करते हुए 9वीं से 12वीं कक्षा तक के छात्रों के लिए स्वेच्छा से स्कूल जाने की अनुमति दे दी है. इसी तरह से उत्तर प्रदेश ने भी टीचर्स के गाइडेंस के लिए स्कूल विजिट करने की अनुमति दे दी है. ऐसे ही आंध्र प्रदेश में वैसे तो स्कूल और दूसरे शैक्षणिक संस्थान 30 सितंबर तक बंद रहेंगे लेकिन स्टूडेंट्स गाइडेंस के लिए स्कूल जा सकते हैं.
विज्ञापन
वहीं हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार ने ट्रायल बेसिस पर क्लासेज को शुरू करने की योजना बनाई है. मीडिया के मुताबिक अधिकारियों का कहना है कि इन स्टूडेंट्स के पैरेंट्स ने भी स्कूलों को खोले जाने की अपनी अनुमति दे दी है. पश्चिम बंगाल की बात करें तो यहां 20 सितंबर तक स्कूलों को बंद रखा गया है. इसके बाद स्कूलों को खोलने का फैसला लिया जाएगा.

केंद्र सरकार ने जारी की हैं ये गाइडलाइन्स
– एक दूसरे से 6 फीट की दूरी बनाकर रखनी होगी.

– फेस कवर या मास्क पहनना अनिवार्य है.

विज्ञापन- हाथ भले ही आपको गंदे न दिखें, फिर भी समय-समय पर साबुन से हाथ धुलना (कम से कम 40-60 सेकंड) जरूरी है. समय-समय पर अल्कोहल बेस्ड सैनिटाइजर का इस्तेमाल (कम से कम 20 सेकंड) जरूरी है.

– छींकते, खांसते समय मुंह व नाक को टिशु, रुमाल या कोहनी से ढकना अनिवार्य है.
अपने स्वास्थ्य को मॉनिटर करते रहेंगे. किसी भी तरह बीमार महसूस करने पर तुरंत संबंधित अधिकारी को सूचित करना होगा.

– जहां संभव हो आरोग्य सेतु ऐप का इस्तेमाल करना होगा.