WHO ने मांगी भारत से मदद, कहा- नेतृत्व करे क्योकिं भारत के पास ही है कोरोना को हराने की ताकत

विश्व स्वास्थ्य संघटन यानी WHO ने भारत को कोरोना वायरस के खिलाफ आक्रमक होकर काम करने की बात कही है। WHO के इमरजेंसी हेल्थ प्रोग्राम के एग्जेक्यूटिव डायरेक्टर माइक रेयान ने स्विटजरलैंड के जेनेवा में 23 मार्च को प्रेस कांफ्रेंस में भारत के लिए सीधे तौर पर बात की। उन्होंने ये भी कहा कि सिर्फ लॉकडाउन करने से ये वायरस खत्म नहीं होगा बल्कि अन्य प्रयास करना भी जरूरी है। उन्होंने आगे कहा कि भारत भी चीन की तरह काफी घनी आबादी वाला देश है। इसलिए आक्रामक कार्यवाही करने की जरूरत है।
भारत सार्वजनिक स्वास्थ्य और समाज के स्तर पर इस बीमारी को रोकने के लिए काम करे। वहीं WHO को भारत से काफी उम्मीदें भी हैं इसलिए उन्होंने उल्लेख करते हुए कहा कि भारत ने पहले भी स्मॉल पॉक्स और पोलियो को मिटाने में दुनिया को रास्ता दिखाया और वैक्सीनेशन बना कर बड़ा काम किया है। उन्होंने कहा कि भारत के पास श्रमता है और वो इस क्षेत्र में काम कर सकता है। इस बिमारी को हराना आसान नहीं है इसलिए ये अधिक जरूरी है कि भारत जैसे देश नेतृत्व करें। दुनिया को भी इस बारे में जानकारी दें कि क्या किया जा सकता है और पहल करें। 
दुनिया भर में कोरोना से संक्रमण की संख्या बढ़ती जा रही है। अब तक देश में 3,82,000 से अधिक हो चुकी है। दुनिया भर में इसके चलते 16,500 मौते हो गई है। वहीं भारत में अब तक 523 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसमें से 10 लोगों की मौत हो चुकी है।